सलमान को बेल मिलने पर ट्विटर पर फूटा लोगों का गुस्सा

img
Salman Khan in the dock at court room

13 साल बाद आये फैसले में 3 घटे में अंतरिम जमानत मिलना और फिर तीसरे ही दिन तीस हजार के मुचलके पर ‘हिट एंड रन’ मामले में सलमान खान को रिहाई मिलने के बाद ट्विटर पर लोगों का गुस्सा फूट रहा है.

इससे पहले गायक अभिजीत भट्टचार्य और फराह खान के सलमान के समर्थन में किये गए ट्वीट्स पर लोगों ने जमकर आलोचना की. सलमान खान को इस तरीके से मिली राहत भारतीय न्यायपालिका के उस स्याह पक्ष को उजागर करती जो कहीं न कहीं दबाब के तहत और पक्षपात से ग्रसित है. इसके साथ ही लोगों ने बोलीवुड और मीडिया के उस तबके को भी निशाने पर लिया जो सलमान के लिए आंसू भरी हमदर्दी लेकर भावनात्मक माहौल तैयार करने में जुटी रही. बुधवार को आये इस फैसले से ही ट्विटर पर #Bail4SalmanYnot4Bapujiऔर #Bail4SalmanNot4Saints ट्रेंड करने लगे और लोगों ने एक ओर सलमान को गुनाह सिद्ध होने के बाद भी जमानत मिलने को और संत श्री आसाराम बापूजी, साध्वी प्रज्ञा जी और स्वामी असीमानंद को सालों से आरोप साबित न होने के बावजूद भी जमानत न मिलने को अन्याय बताया -

किरण के एस लिखते हैं कि इन हैशटैग्स का ट्रेंड करना भारतीय ज्युडिशियरी को जबाब दे पाना कठिन है –

वहीं हिन्दू डिफेन्स लीग ने आवाज उठाई कि जब तरुण तेजपाल और सलमान खान को जमानत मिल सकती है तो संत आसारामजी बापू जो झूठे आरोपों में फंसाए गए हैं, को क्यूँ नहीं?

इनकोग्नितो अपने अकाउंट से सलमान की शुक्रवार के दिन बेल मिल जाने की भविष्यवाणी करते हुए लिखते हैं कि संतों का कठिन भाग्य है उन्होंने नमो के साथ पतंग नहीं उड़ाई

वहीं जन-सत्याग्रह के इस ट्वीट बेहद सराहा गया -

एडवोकेट ईशकरन भंडारी सभी राष्ट्रभक्तों को इस विषय पर उठ खड़े होने के लिए आह्व्हान किया –

ओजस्वी युवा ने लिखा कि “आज ये#Bail4SalmanNot4Saintsप्रश्न उठना लाजमी है। आखिर क्यों अपराधी को कुछ ही घंटों में राहत मिल जाती है और हिन्दू संतों को नहीं ?”

सुदर्शन न्यूज ने संत आसारामजी बापू के पत्रकारों को दिए बयान को कोट करते हुए कहा शराबी सलमान खान को मिली अंतरिम जमानत पर संत आसाराम बापू ने सवाल उठाए हैं।

वर्षा सिंह अपने ट्वीट में लिखती हैं – “बाजारू मीडिया के ट्रायल से एक संत सलाखों के पीछे और एक हत्यारा समाज सेवक और हीरो बन जाता है”

लोकेश महावर लिखते हैं कि हत्या करने वाले को बेल मिल सकती है लेकिन अपने रिश्तेदार का अंतिम संस्कार करने के लिए बेल नहीं मिल सकती ...वाह री न्यापालिका –

अश्विनी पाण्डेय ने कहा कि इस देश में कानून और न्याय का अधिकार तो सिर्फ पैसे वाले अमीर लोग और भ्रष्ट नेताओं को ही है | #Bail4SalmanNot4Saints

शिल्पा अग्रवाल ने सलमान के मामले पर मीडिया की भूमिका पर ऊँगली उठाई -

मीना शर्मा ने गजब का तंज कसा – “हीरो-हीरोईन का जत्था भी सल्लू के घर आयाबोलीवुड का नंगा चेहरा हमको अब नज़र आया”

वरीचा कश्यप - “विश्व के सबसे बड़े प्रजातंत्र में न जाने कब तक बिकेगा कानून कभी नेता के हाथ व कभी अभिनेता के”

रविन्द्र कुमार नागर लिखते हैं -

Jan-Satyagrah Desk
Jan-Satyagrah Desk represents the collective work of its editorial team by researching, observing and writing on various contemporary subjects.
PROFILE

Leave a Comment